Saturday, September 5, 2009

कैलेंडर



महीना बदलते समय
धागा आगे करना पड़ता है
कागज़ थोडा सा फट जाता है
धागा छोटा होता जाता है

ज़िन्दगी की तरह

No comments:

Post a Comment