Saturday, December 12, 2009

धूप -छाँव




बहुत घने पेड़ अक्सर धूप को रोक लेते हैं
इनकी नीचे की शाखें , पत्ते ,
घास और आस पास के छोटे छोटे पौधे
कुम्हला जाते हैं
समय रहते कंटाई छंटाई हो जाए तो अच्छा है
ख़ुद के लिए भी और
दूसरों के लिए भी
धूप छाँव में सामंजस्य बिना जीना पड़ता है
बेडौल
बेढंगा और
बीमार जीवन







2 comments:

  1. bahut hi sundar chtran jo yatharth ko abhivykt kane me puri tarah prabhav purn hai.
    poonam

    ReplyDelete
  2. dhanyavad poonam ji
    aapki kavita sooraj aur rajni bahut sunder hai

    ReplyDelete