Monday, January 2, 2012

खज़ल

 खज़ल

हिमाचल में रोज़मर्रा की बोलचाल में यह शब्द अक्सर सुनने में आता है
अरे ! इसने तो सब खज़ल कर दिया

या फिर 
नहीं ! इस रूट से न जाना सब खज़ल हो जाएगा 
वगैरह वगैरह 

अन्ना जी का लोकपाल 
सरकारी लोकपाल 
सिटिज़न चार्टर 
लोकायुक्त 
सी बी आई 
और भी पता नहीं क्या क्या 

अक्सर सोचती हूँ कि
करप्शन तो गया नहीं सब 
खज़ल हो गया  

2 comments: