Sunday, August 11, 2013

ढक्कन

किसी भी शीशी को खोलने के लिए उसके
ढक्कन को बड़ी जोर से घुमाना पड़ता है
अक्सर चाक़ू से उसकी नीचे की रिंग को अलग करना पड़ता है
तब जाकर खुलता है
अटूट बंधन है
सोनिया गाँधी और हमारे प्रधानमंत्री जी की तरह
काटते रहो वरना दोनों बस घूमते ही रहेंगे
एक साथ


2 comments:

  1. गहरा फेविकोल का बंधन है .. टूटना आसान नहीं ...

    ReplyDelete
  2. He is bound to be with... Because he has no other way at this age...

    ReplyDelete